facebook
Sunday , February 26 2017
Breaking News
Home / Featured / जयगुरूदेव के आश्रम का बचा हुआ विषाक्त भोजन खाकर 26 मवेशियों की मौत

जयगुरूदेव के आश्रम का बचा हुआ विषाक्त भोजन खाकर 26 मवेशियों की मौत

आवाज न्यूज नेटवर्क –

वाराणसी : चंदौली जिले के कटेसर गांव में जय गुरुदेव शाकाहार, सदाचार और मद्यनिषेध सत्संग के लिए देश भर से आए भक्तों के भंडारे के लिए बने भोजन को आयोजकों ने इधर-उधर उधर फेंक दिया। इसे खाने से कटेसर और डोमरी गांव के 26 मवेशियों की मौत हो गई और 19 पशुओं की हालत गंभीर है।  प्रशासनिक निर्देश पर मवेशियों के शव गड्ढा खोद कर दफना दिए गए।

जय गुरुदेव समिति की ओर से 15 अक्तूबर से कटेसर में दो दिनी सत्संग का आयोजन किया गया। इसमें तीन से चार लाख भक्त पहुंचे थे। सत्संग स्थल पर भंडारे का भी आयोजन हुआ था। इस बीच 15 अक्तूबर को राजघाट पर भगदड़ में 25 लोगों की मौत हो गई और कई लोग जख्मी हो गए।  इसके चलते समय से पहले ही भक्तों की रवानगी शुरू हो गई। इससे भंडारे का बड़े पैमाने पर बना भोजन बचने लगा। इने बाहर फेंक दिया गया।

डोमरी के पशुपालक मदनलाल शर्मा ने बताया कि भंडारे का फेंका गया भोजन खाने से मवेशी बीमार होने लगे और उनकी एक गाय की मौत हो गई। गांव के मुराहू यादव की एक भैंस मर गई, जबकि दूसरी बीमार है। दयाराम की एक गाय की मौत हुई, दो बीमार हैं। कटेसर के बृजमोहन की चार गाय और विष्णु नारायण यादव की दो गाय और दो भैंस मर गईं, जबकि पांच मवेशी बीमार है। चमचम यादव की तीन गाय मर गईं, दो भैंस बीमार हैं। रामचरण की भैंस मर गई, जबकि पांच पशु बीमार है। पशुपालकों ने बताया कि फेंका गया भोजन विषाक्त हो गया था। इसके खाने से पशुओं की मौत हुई है। सूचना मिलने पर प्रशासनिक अधिकारियों ने गड्ढा खोदवा कर मवेशियों को दफनाना शुरू कर दिया है।

Check Also

अशोक खरात – प्रभाग क्र. ११ ‘क’ गट राष्ट्रीय समाज पक्षाचे अधिकृत उमेदवार

Click on Below Video Related

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *